JEE Mains क्या होता है? JEE Mains की परीक्षा कितने बार दे सकते हैं?

JEE Mains क्या होता है (JEE Mains kya hota hai) आज के समय में इंजीनियर बनने के लिए छात्र कठिन परिश्रम करते हैं भारत में कई ऐसे बोर्ड और यूनिवर्सिटी हैं जो इंजीनियर बनने के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा का आयोजन कराती हैं आज हम उनमें से एक संयुक्त प्रवेश परीक्षा (Joint Entrance Examination) JEE Mains के बारे में जानेंगे और यह भी जानेंगे कि JEE Mains क्या होता है।

JEE Mains क्या होता है (JEE Mains kya hota hai)

JEE Mains क्या होता है

JEE Mains क्या होता है (JEE Mains kya hota hai)

यदि आपको इंजीनियर बनना है तो आपको यह पता होना चाहिए कि इंजीनियर बनने के लिए BE या B.Tec इंजीनियर की डिग्री प्राप्त करनी होती है। इंजीनियर बनने के लिए सबसे पहले आपको एक एंट्रेंस टेस्ट देना होता है और एंट्रेंस टेस्ट पास करने के बाद ही आपको कोई इंजीनियरिंग कॉलेज एडमिशन देता है JEE का एंट्रेंस टेस्ट भी उनमें से एक है जो कि पूरे भारत में एक साथ कंडक्ट कराया जाता है।

JEE Mains क्या होता है जाने इसके बारे में

इंजीनियर बनने के लिए बहुत से कॉलेजेस यूनिवर्सिटी इस तरह की परीक्षा को कंडक्ट कराते हैं किंतु यह नेशनल लेवल पर नहीं होती है जेईई एक ऐसी परीक्षा है जो सीबीएसई द्वारा कंडक्ट कराई जाती है यह साल में दो बार इंजीनियरिंग एंट्रेंस टेस्ट के लिए परीक्षा कराती है जेईई जूनियर एंट्रेंस एग्जामिनेशन CBSE द्वारा कंडक्ट कराया जाता है।

पहले यह परीक्षा एक ही बार ली जाती थी परंतु कुछ वर्ष पहले ही जेईई की परीक्षा को दो भाग में बांट दिया गया था पहला भाग JEE Main है दूसरा भाग JEE Advance है आपको हम जेईई एडवांस के बारे में अगले पोस्ट में जानकारी देंगे।

JEE Mains की परीक्षा कैसे दें

इस परीक्षा को देने के लिए छात्र को 11वीं और 12वीं में फिजिक्स केमिस्ट्री और मैथ से पास होना अनिवार्य है जेईई उन छात्रों के लिए है जो 12वीं में फिजिक्स केमिस्ट्री और मैथ के विषय लेते हैं। और 12वीं की कक्षा पास करते हैं।

JEE Mains पास होने पर एडमिशन कहां मिल सकता है

जेईई की परीक्षा पास करने वाले छात्रों को एडमिशन आसानी से मिल जाता है और यदि आप इस परीक्षा में अच्छे अंक हासिल करते हैं तब आपको NIT, IIIT जैसे अच्छे कॉलेजों में एडमिशन मिल सकता है और जिन छात्रों के स्कोर कम हैं उन छात्रों को भी अच्छे इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश मिल जाता है।

जेईई मेंस का पेपर कैसे होता है।

  • जेईई मेंस की परीक्षा ऑनलाइन ली जाती है
  • यह परीक्षा 90 प्रश्न की होती है।
  • फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ इन तीनों सब्जेक्ट के बराबर प्रश्न 30-30-30 पूछे जाते हैं।
  • यह परीक्षा 360 अंकों की होती है।
  • यह परीक्षा ऑब्जेक्टिव टाइप होती है।
  • इस परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग होती है जिसमें आपको गलत आंसर देने पर 1/4 नंबर काट दिए जाते हैं।

जेईई मेंस की परीक्षा कितने बार दे सकते हैं

जब आप ट्वेल्थ क्लास में पढ़ रहे होते हैं तब आप परीक्षा दे सकते हैं जब से आप ट्वेल्थ क्लास में प्रवेश लेते हैं तब से आपके पास 3 वर्ष होते हैं जेईई की परीक्षा पास करने के लिए और प्रत्येक वॉइस में दो बार एग्जाम लिए जाते हैं इस तरह से हिसाब लगाया जाए तो आप 6 बार एग्जाम दे सकते हैं।

The Author

Kamlesh Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published.