जानें ग्राम पंचायत चुनाव उत्तर प्रदेश 2020 कब होगा ? फरवरी या मार्च 2021 में हो सकते हैं पंचायत चुनाव..

ग्राम पंचायत चुनाव उत्तर प्रदेश 2020 कब होगा date: दोस्तों उत्तर प्रदेश ग्राम पंचायत चुनाव 2020 कब होंगे, इसमें क्या कुछ बदलाव किया जाने वाला है, हम पूरी चर्चा करेंगे। यूपी पंचायत चुनाव 2015 में 9 अक्तूबर से 9 दिसंबर तक चुनाव हुए थे।

ग्राम पंचायत चुनाव उत्तर प्रदेश 2020 कब होगा ?

Gram Panchayat Chunav Uttar Pradesh 2020 Kab Hoga date

वोटर लिस्ट पुनरीक्षण एक अक्टूबर से 12 नवंबर तक बीएलओ घर-घर जाकर गणना व सर्वेक्षण करेंगे। एक अक्टूबर से ऑनलाइन आवेदन भी किए जा सकेंगे। मतदाता सूचियों का अंतिम प्रकाशन 29 दिसंबर को किया जाएगा।

UP में पंचायत चुनाव की अधिसूचना जारीपंचायत चुनाव फरवरी या मार्च 2021 में हो सकते हैं ।

  • एक अक्टूबर से 12 नवंबर तक बीएलओ घर-घर जाकर गणना व सर्वेक्षण करेंगे।
  • एक अक्टूबर से ऑनलाइन आवेदन भी किए जा सकेंगे।
  • मतदाता सूचियों का अंतिम प्रकाशन 29 दिसंबर को किया जाएगा।
ग्राम प्रधान का चुनाव कब होगा 2020
  1. प्रदेश में पंचायत चुनाव अगले साल अप्रैल व मई के महीनों में करवाए जाने की उम्मीद है।
  2. दो से अधिक बच्चे होने पर पंचायत चुनाव लड़ने पर लग सकती है रोक (टू चाइल्ड पॉलिसी)
  3. शैक्षिक योग्यता पर भी विचार : इसके तहत ग्राम प्रधान व क्षेत्र पंचायत सदस्य पद के लिए हाईस्कूल‚ जिला पंचायत सदस्य के लिए इंटरमीडि़यट व ग्राम पंचायत सदस्य के लिए कक्षा आठ पास होना जरूरी रखा जा सकता है।

बड़ी खबर :- यूपी मे पंचायत चुनाव 6 महीने के लिए टलेंगे, मौजूदा ग्राम प्रधानों को बनाया जा सकता है प्रशासक, 25 दिसंबर को पूरा हो रहा है कार्यकाल, नहीं जारी हुई गाइडलाइन्स

कोरोना महामारी के चलते पंचायत चुनाव वर्ष 2021 में होने की संभावना जताई जा रही है। मुख्यमंत्री लेंगे अंतिम निर्णय, अभी चुनाव स्थगित करने का फैसला नहीं हुआ है।

प्रदेश में 58758 ग्राम पंचायत, 821 क्षेत्र पंचायत और 75 जिला पंचायत हैं। इनके चुनाव इसी साल के आखिर तक होने थे। चुनाव की तैयारियां में कम से कम 6 महीने लगते हैं।

ग्राम प्रधान चुनाव उत्तर प्रदेश 2020 कब होगा (Gram Pradhan Chunav Uttar Pradesh 2020 Kab Hoga),

यह भी जरूर पढ़ें :

प्रधानी चुनाव उत्तर प्रदेश 2020 न्यूज़ : जानें ग्राम प्रधान चुनाव उत्तर प्रदेश 2020 कब होगा…..

UP जिला पंचायत अध्यक्ष, जिला पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान & ग्राम पंचायत सदस्य आरक्षण सूची 2020 (रिजर्वेशन लिस्ट) देखें।

ग्राम प्रधान, बीडीसी और क्षेत्र पंचायत के चुनाव में आयोग ने UP सरकार को नोटा का प्रस्ताव भेजा है उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव में नोटा का इस्तेमाल होगा।

दोस्तों आप जानते नोटा का जो बटन है उसका प्रयोग जो है वह विधानसभा और लोकसभा चुनाव में किया जाता है इस बार यूपी के ग्राम पंचायत चुनाव में भी नोटा का इस्तेमाल होगा यानी कि प्रत्याशी जो खड़े होते हैं उनमें से अगर मतदाता को कोई भी प्रत्याशी पसंद नहीं है तो वह नोटा के बटन का इस्तेमाल कर सकता है उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव में अब मतदाता का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

पंचायत राज प्रणाली की मुख्य विशेषताएं:
  • ग्राम सभा एक निकाय है जिसमें निर्वाचक नामावलियों में पंजीकृत सभी लोग शामिल होते हैं जो ग्राम स्तर पर पंचायत के क्षेत्र में शामिल एक गाँव के होते हैं। ग्राम सभा पंचायती राज व्यवस्था में सबसे छोटी और एकमात्र स्थायी इकाई है। ग्राम सभा की शक्तियां और कार्य राज्य विधायिका द्वारा विषय पर कानून के अनुसार तय किए जाते हैं।
  • सीटें अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) के लिए आरक्षित हैं और सभी स्तरों पर पंचायतों के अध्यक्ष अपनी आबादी के अनुपात में एससी और एसटी के लिए आरक्षित हैं।
  • कुल सीटों की एक तिहाई सीटें महिलाओं के लिए आरक्षित की जानी हैं। एससी और एसटी के लिए आरक्षित एक-तिहाई सीटें भी महिलाओं के लिए आरक्षित हैं। आरक्षित सीटों को पंचायत में विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों के लिए रोटेशन द्वारा आवंटित किया जा सकता है।
  • एक समान नीति है जिसमें प्रत्येक शब्द पांच वर्ष का है। कार्यकाल समाप्त होने से पहले नए सिरे से चुनाव कराए जाने चाहिए। विघटन की स्थिति में, छह महीने के भीतर अनिवार्य रूप से चुनाव (अनुच्छेद 243 ई)।
  • पंचायतों के पास आर्थिक विकास और सामाजिक न्याय के लिए योजनाओं को तैयार करने की जिम्मेदारी है, क्योंकि यह कानून के अनुसार विषयों के संबंध में है, जो ग्यारहवीं अनुसूची (अनुच्छेद 243 जी) में वर्णित विषयों सहित पंचायत के विभिन्न स्तरों तक विस्तृत है।
ग्राम पंचायत:

ग्राम पंचायत में एक गाँव या गाँवों का एक समूह होता है जिसे “वार्ड” नामक छोटी इकाइयों में विभाजित किया जाता है। प्रत्येक वार्ड एक प्रतिनिधि का चयन या चुनाव करता है जिसे पंच या वार्ड सदस्य के रूप में जाना जाता है।

ग्राम सभा के सदस्य सीधे चुनाव के माध्यम से वार्ड सदस्यों का चुनाव करते हैं। ग्राम पंचायत के सरपंच या अध्यक्ष को राज्य अधिनियम के अनुसार वार्ड सदस्यों द्वारा चुना जाता है। सरपंच और पंच का चुनाव पांच साल की अवधि के लिए किया जाता है।

ग्राम पंचायत निर्वाचित निकाय और प्रशासन द्वारा शासित होती है। सचिव सामान्य रूप से ग्राम पंचायत के प्रशासनिक कर्तव्यों का प्रभारी होता है।

ब्लॉक पंचायत

पंचायत समिति (जिसे तालुका पंचायत या ब्लॉक पंचायत भी कहा जाता है) पंचायती राज संस्थाओं में मध्यवर्ती स्तर है। पंचायत समिति ग्राम पंचायत (ग्राम) और जिला पंचायत (जिला) के बीच कड़ी के रूप में कार्य करती है। ये ब्लॉक पंचायत समिति परिषद सीटों के लिए चुनाव नहीं करते हैं।

इसके बजाय, ब्लॉक परिषद में सभी ग्राम पंचायत के सभी सरपंचों और उप सरपंचों के साथ-साथ विधान सभा (एमएलए) के सदस्य, संसद के सदस्य (सांसद), सहयोगी सदस्य (सहकारी समिति के प्रतिनिधि की तरह) और सदस्य होते हैं। जिला परिषद से जो ब्लॉक का हिस्सा हैं।

ग्राम पंचायत सदस्य अपने सरपंच और उप सरपंच को अपने रैंकों के बीच नामित करते हैं, जो चेयरपर्सन और उप-चेयरपर्सन के चयन को भी विस्तारित करते हैं। कार्यकारी अधिकारी (EO) पंचायत समिति के प्रशासन अनुभाग का प्रमुख होता है।

जिला पंचायत

जिला पंचायत को जिला परिषद या जिला परिषद के रूप में भी जाना जाता है, जो पंचायती राज व्यवस्था की तीसरी श्रेणी है। ग्राम पंचायत की तरह ही जिला पंचायत भी है एक निर्वाचित निकाय ब्लॉक समितियों के अध्यक्ष भी जिला पंचायत का प्रतिनिधित्व करते हैं।

ब्लॉक पंचायत की तरह, सांसद और विधायक भी जिला पंचायत के सदस्य होते हैं। सरकार मुख्य कार्यकारी अधिकारी, मुख्य योजना अधिकारी और एक या एक से अधिक उप सचिवों के साथ जिला पंचायत के प्रशासन को संचालित करने के लिए मुख्य कार्यकारी अधिकारी को नियुक्त करती है जो सीधे मुख्य कार्यकारी अधिकारी के अधीन काम करते हैं और उसकी सहायता करते हैं। जिला परिषद अध्यक्ष जिला पंचायत का राजनीतिक प्रमुख होता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

Q1: उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव कब हो सकते हैं?

Ans: संभवतः कोरोना महामारी के चलते पंचायत चुनाव वर्ष 2021 में होने की संभावना जताई जा रही है।

Q2: यूपी पंचायत चुनाव की अधिसूचना कब जारी होगी ?

Ans : उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनावों पर भी असर, 25 दिसम्बर से मौजूदा ग्राम पंचायतों का कार्यकाल खत्म हो रहा है।

Q3: यूपी में प्रधानी का चुनाव कब होगा?

Ans : नवंबर दिसंबर 2020 में संभवतः

The Author

Girish Kumar

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम गिरीश कुमार है और मैं Job Alert Hindi का कंटेंट राइटर हूँ। यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको महत्वपूर्ण शैक्षिक सामग्री, सभी विभाग की सरकारी नौकरी व इससे संबंधित अन्य प्रकार की जानकारी हिंदी में मिलेगी।

25 Comments

Add a Comment
  1. Awanendra Bahadur yadav

    Sir gram panchayati chunaw kab hoga

  2. यूपी ग्राम प्रधान की आरक्षण सूची 2020 कब तक लगेगी

    1. यूपी ग्राम पंचायत का चुनाव का निर्णय कब लिया जाएगा

    2. अनिल कुमार यादव

      यूपी ग्राम पंचायत का चुनाव कब तक होने की उम्मीद है इसे जल्दी से जल्दी पता करके बताओ सर जी जब तक वोटर लिस्ट ही तैयार कीया जा सकता है क्योंकि विद्यालय सभी बंद चल रहे हैं शिक्षकों को लगा दिया जाए वोटर लिस्ट तैयार करने के लिए

      1. कोरोना महामारी के चलते पंचायत चुनाव वर्ष 2021 में होने की संभावना जताई जा रही है।

  3. यूपी ग्राम प्रधान की आरक्षण सूची 2020 कब तक लगेगी

  4. यूपी में ग्राम प्रधान पद के चुनाव कब तक होगे
    सही डेट बताना

    1. हेमन्त मिश्र

      लगभग नवम्बर या दिसम्बर तक कोरोना बीमारी के वजह से ग्राम पंचायत चुनाव 2021 जनवरी या फरवरी तक भी हो सकता है

  5. Kab Tak pata chalega ki kon si seat hua hai sir

  6. ग्राम पंचायत चुनाव कब होगे

  7. चुनाव कब तक होने की संभावना

    1. आरक्षण का पता कब तक लग जाएगा

      1. abhi aur dhoda injaaar karna padega

  8. Sir gram panchayat chunav kab hoga 2020 ka

  9. abhi kuchh bi kahna bahut hi jaldbazi hogi

  10. Sar ge up panchait list kab jari hoga

  11. Sir general category mai 10% reservation hoga kya isbaar

    1. Gram pradhan ke chunav mai

  12. sir jila panchaiti aor pardhani ka chunaw alag alag hoga agli bar ki tarah batna jarur sir

  13. यूपी मे कब चुनाव होगा

  14. Reservation kab ayega

  15. UP ME PRADHANI CHUNAV KAB HOGA SIR G

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *