ग्राम पंचायतों में स्वयं सहायता समूह की 58 हजार महिलाओं को रोजगार मिलेगा। जानें स्वयं सहायता समूह रजिस्ट्रेशन UP के लिए कैसे करें ?

Self Help Group Registration Uttar Pradesh : स्वयं सहायता समूह योजना क्या है और CSC द्वारा स्वयं सहायता समूह रजिस्ट्रेशन UP के लिए कैसे करें ?

ग्राम पंचायतों में स्वयं सहायता समूह की 58 हजार महिलाओं को रोजगार मिलेगा। सरकार की ओर से मानदेय 6000 रुपए एवं रखरखाव के लिए 9000 रुपए मिलेंगे।

Self Help Group की 58000 महिलाओं को UP की सभी ग्राम पंचायतों में बन रहे शौचालयों के देख-रेख की कमान सौंपी जाएगी।

स्वयं सहायता समूह रजिस्ट्रेशन UP

सरकार की ओर से प्राथमिकता के आधार पर स्वच्छता को लेकर प्रदेश की 58 हजार ग्राम पंचायतों में शौचालय बनवाए जा रहे हैं।

स्वयं सहायता समूह रजिस्ट्रेशन UP के लिए कैसे करें

बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि हमें कहां से SHG कोड प्राप्त करना है, तो प्यारे दोस्तों, आप अपना SHG कोड ऑनलाइन भी प्राप्त कर सकते हैं।

आप स्वयं सहायता समूह का सदस्य बनने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते हैं।

  • ऑनलाइन पंजीकरण करने के लिए आपको सबसे पहले नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • https://www.kviconline.gov.in/
  • लिंक पर क्लिक करने के बाद आपको एक फॉर्म दिखाई देगा।
  • आपको इस फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारियों को ध्यान से भरना होगा।
  • आपको अपने राज्य पर क्लिक करना है और चयन करना है, अपने जिले का चयन करें और अपने गांव का चयन करें और अपना SHG कोड प्राप्त करें।
  • सफलतापूर्वक सभी जानकारी को भरने के बाद सेल्फ हेल्प ग्रुप में रजिस्ट्रेशन कर दिया जाएगा

Q1 : स्वयं सहायता समूह योजना क्या है?

Ans : Self Help Group है जिसे हम हिंदी में स्वयं सहायता समूह जानते हैं, महिलाओं के स्तर को सुधारने और बढ़ावा देने के लिए स्वयं सहायता समूहों का गठन किया जाता है।

Q2 : स्वयं सहायता समूह में क्या लाभ हैं?

Ans : 1- सामाजिक बुराइयों का मुकाबला करना: एसएचजी शराब, नशा, जुआ, आदि जैसी सामाजिक बुराइयों पर काबू पाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
2- महिला सशक्तिकरण: महिला एसएचजी अपने सदस्यों को सामाजिक बाधाओं से स्वतंत्र करती हैं और उन्हें स्वतंत्र निर्णय लेने की अनुमति देती हैं। वे ग्राम सभा में भी सक्रिय रूप से भाग ले सकते हैं।
3- लोकतंत्र में सक्रिय भागीदारी: SHG स्थानीय शासन के पहलुओं में सक्रिय रूप से भाग ले सकते हैं। इसका मतलब होगा कि स्थानीय शासन में समाज के कमजोर और हाशिये के वर्गों को शामिल करना।
4- ग्रामीण भारत में रोजगार के अवसरों में वृद्धि: यह ग्रामीण समाज के भीतर सूक्ष्म स्तर की उद्यमशीलता के लिए अनुमति देता है और कृषि पर बहुत अधिक निर्भरता को कम करता है।
5- सरकारी योजनाओं तक आसान पहुँच: सरकारी योजनाएँ ज्यादातर समाज के हाशिये के वर्गों के लिए होती हैं।
6- जीवन स्तर में सुधार: एसएचजी द्वारा वित्तीय समावेशन के लिए सामूहिक टीम का प्रयास समाज के कमजोर वर्गों के जीवन स्तर, परिवार नियोजन, स्वास्थ्य सेवा में सुधार के लिए अनुमति देता है।
7- वित्तीय अनुशासन: स्वयं सहायता समूह के सदस्यों को बैंकों में बचत खाते खोलने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। इसने शिक्षा, स्वास्थ्य, आदि पर खर्च में वृद्धि की, रहने की स्थिति में सुधार किया

Q3 : स्वयं सहायता समूह के कार्य क्या हैं?

Ans : स्व-सहायता समूह (एसएचजी) की कार्य हैं (i) लोग बचत के उद्देश्य से अपने व्यक्तिगत समूह बनाते हैं और स्वयं के लिए धन उधार भी देते हैं। (ii) ब्याज की दर अनौपचारिक सेवा प्रदाताओं की तुलना में कम है। (iii) यदि उनकी बचत नियमित है तो वे बैंकों से ऋण भी प्राप्त कर सकते हैं।

Updated: November 30, 2021 — 5:27 pm

The Author

Rima Singh

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम रीमा सिंह है और मैं jobalerthindi.com की कंटेंट राइटर हूँ। यह एक हिंदी ब्लॉग है जिसमे आपको महत्वपूर्ण शैक्षिक सामग्री, सभी विभाग की सरकारी नौकरी व इससे संबंधित अन्य प्रकार की जानकारी हिंदी में मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.