डेडीकेटेड फ्रेट कोरीडोर जल्द रेलवे में 2600 ड्राइवरों की भर्ती (मालगाडिय़ों को चलाने के लिए) करने जा रहा है।

DFC रेलवे ड्राइवर भर्ती न्यूज़: डेडीकेटेड फ्रेट कोरीडोर जल्द रेलवे में 2600 ड्राइवरों की भर्ती करने जा रहा है। DFCCIL ड्राइवर भर्ती: DFC में भर्ती होने वाले ड्राइवरों को कैप्टन और को-कैप्टन के नाम से जाना जाएगा।

डीएफसी ने फिलहाल रेलवे से ड्राइवर लेकर मालगाडिय़ों को चलाने का फैसला किया है। इसके साथ ही प्रथम चरण में 2600 कैप्टन और को-कैप्टन की भर्ती करने की प्रक्रिया शुरू करने का निर्णय लिया है।

उन्होंने बताया कि आगामी जनवरी से अप्रैल तक 2600 में से 50 फीसदी कैप्टन और को-कैप्टन की भर्ती कर ली जाएगी। शेष पदों को 2020 दिसंबर तक प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी।

DFCCIL रेलवे ड्राइवर भर्ती

DFCCIL नीचे दिए गए विवरण के अनुसार, चालक के पदों पर ऑनलाइन मोड के माध्यम से भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित करता है:

Railway jobs

डेडीकेटेड फ्रेट कोरीडोर क्या है?

डेडीकेटेड फ्रेट कोरीडोर (DFC) एक रेल मार्ग है, जो केवल माल ढुलाई के लिए समर्पित है। डीएफसी में कई मालवाहक लोडिंग टर्मिनल और कोई यात्री रेलवे स्टेशन / टर्मिनल नहीं हैं। डीएफसी पर केवल मालगाड़ियाँ चलती हैं, जो निर्धारित माल लदान / अनलोडिंग टर्मिनलों पर रुकती हैं। डीएफसी पर कोई भी यात्री ट्रेन नहीं चलती।

आयु सीमा : आयु सीमा के बारे में विवरण अभी तक घोषित नहीं किया गया है, इसलिए उम्मीदवारों को आधिकारिक घोषणा की प्रतीक्षा करनी चाहिए। आयु सीमा के बारे में सटीक विवरण आगामी विस्तृत विज्ञापन के साथ प्रदान किया जाएगा।

वेतनमान : वेतनमान आगामी विस्तृत विज्ञापन के साथ अपडेट किया जाएगा।

शैक्षणिक योग्यता :आवश्यक शिक्षा योग्यता के बारे में विवरण आगामी विस्तृत विज्ञापन में प्रदान किया जाएगा।

आवेदन शुल्क : आगामी विस्तृत विज्ञापन के साथ प्रदान किया गया।

आवेदन कैसे करें : इच्छुक पात्र उम्मीदवार ऑनलाइन आवेदन करें। आवेदन जमा करने का कोई अन्य तरीका स्वीकार नहीं किया जाएगा। ऑन-लाइन आवेदन भरने से पहले, उम्मीदवारों को सलाह दी जाती है कि वे विज्ञापन को ध्यान से देखें और समझें।

Official Website: http://www.dfccil.com/

डेडीकेटेड फ्रेट कोरीडोर के लाभ

भारत सरकार की योजना है कि कॉरिडोर के साथ लगभग 1 बिलियन डॉलर के निवेश के साथ सात एकीकृत विनिर्माण क्लस्टर स्थापित किए जाएं। यह अपेक्षाकृत राज्य में आर्थिक बढ़ावा देगा और नागरिकों को रोजगार के अवसरों, स्वास्थ्य, शिक्षा और अन्य सामाजिक सेवाओं तक बेहतर पहुंच प्रदान करेगा।

कॉरिडोर विश्व बैंक द्वारा समर्थित है, जिसका उद्देश्य भारत में माल ढुलाई वाले उद्योगों के लिए परिवहन कनेक्टिविटी और घरेलू बाजार एकीकरण में सुधार करके परियोजना के माध्यम से एकीकरण, परिवर्तन और समावेश को प्राप्त करना है।

परियोजना से लाभान्वित होने वाली पार्टियों में बिजली और भारी विनिर्माण उद्योग शामिल हैं, जो रेलवे को वस्तुओं और बाजारों और बंदरगाहों के साथ-साथ सामुदायिक समूहों, निवासियों और किसानों को गलियारे तक पहुंचाने के लिए रेलवे पर निर्भर हैं।

Leave a Comment